Monday, February 24, 2014

Our Poems... (Part 2)

Your poems were for me
mine for everyone but you...
You looked at me, for me
I looked at everyone and for
everyone but you...

You loved me but left...
I left you but still loved...

You scarred your body in search of me
I scarred my soul in spite of you.

You moved on and turned
into a family man
a lovely husband and a great father.

I moved on and turned
into a bohemian artist.
a single woman and a great catch

Our lives carried on
Our paths seldom crossed
Crossed if they did only
to move on again...

Until one warm and humid
August Morning...
The destiny intermingled again
The line connected and so did the hearts...

Now my poems are for you
but you are for others
I look for you
but you have to look at others
My love is for you
and yours is divided...

My soul is still scarred
looking for a balm
Your body is still scarred
looking for the cure

We seem to be the pieces
of a puzzle waiting to fit...

but you are still a family man
and I am the bohemian artist

single and a great catch.

(C) shubhra

21st February, 2014

Friday, February 21, 2014

Our Poems...

My poems were for you
Yours for everyone but me...
I looked at you, for you
You looked at everyone and for
everyone but me...

I loved you but left...
You left me but still loved...

I scarred my body in search of you
You scarred your soul in spite of me.

I moved on and turned
into a family man
A loving husband and a  great father.

You moved on and turned
into a bohemian artist...
A single woman and a great catch!

Our lives carried on
Our paths seldom crossed
Crossed if they did only
to move on again...

Until one warm and humid
August morning...
The destiny intermingled again
The line connected and so did the hearts...

Now your poems are for me
but I am for others
You look for me
but I have to look at others
Your love is for me
and mine is divided...

Your soul is still scarred
looking for a balm
My body is still scarred
looking for the cure

We seem to be the pieces
of a puzzle waiting to fit...

But I am still a family man
and you the bohemian artist

Single and still a great catch.

(C) shubhra

21st February, 2014

एक लड़की शहर में... (2)

आज पूरी सुबह उसने स्टोर में बिताई... 
बक्से में से गरम कपड़े निकाले 
और छत पे डाल उनमे धूप लगाई... 

लाल पीले, हारे, गुलाबी हर रंग के स्वेटर बिखरे हुए थे... 
पर उसका ध्यान सिर्फ़ ऊनी जॅकेट और कोट  पर था... 
हर एक की जेब टटोल के ढूँढ रही थी 
शायद कुछ रुपय मिल जाए पिछले साल के... 

फिर नीले कोट में से एक काग़ज़ मिला... 
इंक पेन से सुंदर लिखावट में लिखा था... 
'पटेल चौक मेट्रो स्टेशन- 2.30 बजे, इंतिज़ार करूँगा...'

उसने कलाई पे बँधी घड़ी को देखा...
दिन के 'ढाई' (2.30) बजे थे...

(c) shubhra, 13th November, 2013


एक लड़की शहर में... (1)

कलफ़ लगी हुई सूती सारी का पल्ला (जो की रात तक मुस चुका था),
उसने कमर में खोसा हुआ था...

आज वो ज़्यादा थॅकी हुई थी पर नींद गायब थी...
नवेंबर की सर्दी में बाहर छत पे खड़ी हुई
वो चाँद को ताक रही थी
और काँप भी रही थी...  

गुज़रे दिन को याद करते हुए सोच रही थी...
क्या वो भी इस समय जागा हुआ
चाँद को देख रहा होगा?

(c) Shubhra, 12th November, 2013
12/11/13

Tuesday, January 07, 2014

कल तुम्हारे साथ थी...

कल तुम्हारे साथ थी

तुम्हारे सोए हुए
बिस्तर की सिलवटों में
तो कभी तुम्हारी
किताबों के बीच,
तुम्हारे चौके में 
बर्तनो के साथ   
तो कभी दरवाज़ए की
चौकठ पे;
बगीचे में घास पे पड़ी
ओस में
और आम के पेड़ पे
चहकती चिड़ियों के साथ,
बाहर सड़क पे
कंकर के बीच
और तुम्हारी गाड़ी की
सामने वाली सीट पे भी;

कल तुम्हारे साथ थी

तुम्हारी अलमारी
घड़ी
कपड़े
रूमाल
जूते
सब के आस पास
मंडराती रही;

कल तुम्हारे साथ थी

चाय बनाते
अख़बार पढ़ते
दौड़ते
नहाते
खाते और
सोते हुए भी...
करीब से देखा कल तुम्हे

कल तुम्हारे साथ थी

सुना है
नौ बजे के करीब
खुद से जुदा हुई थी
तो क्या उसी समय तुमसे मिली?
यकीन तो नहीं
मगर लगता
ज़रूर है  कि...

कल रात तुम्हारे साथ थी...
 

(c) shubhra, 6th January 2014