Wednesday, November 02, 2011

दिल जलाने को सितम्गर बहुत थे, एक आप भी जुड़ गये तो क्या हुआ...||

(c) शुभ्रा

October 28, 2011